घर भाषा हिंदी छत्तीसगडमध्ये जिल्हाधिका of्यांच्या चापट मारून खळबळ उडवणा Fa्या मीडियाला यूपीमधील फैजलच्या हत्येचा प्रश्नही पडत नाही., का?

छत्तीसगडमध्ये जिल्हाधिका of्यांच्या चापट मारून खळबळ उडवणा Fa्या मीडियाला यूपीमधील फैजलच्या हत्येचा प्रश्नही पडत नाही., का?

यापूर्वी घडलेल्या दोन घटनांनी देशाचे लक्ष वेधले होते. यातील पहिली घटना यूपीतील उन्नावमध्ये होती. 18 छत्तीसगडमधील सूरजपूर जिल्ह्यात पोलिसांच्या मारहाणीमुळे एका वर्षाच्या भाजीपाला तरुणाचा कोठडीत मृत्यू आणि एका तरुणाला जिल्हाधिकाऱ्यांनी थप्पड मारल्याची दुसरी घटना.

छत्तीसगढ़ में जैसे ही एक कलेक्टर ने युवक को थप्पड़ मार दिया, छत्तीसगढ़ की सरकार और वहां के सीएम भूपेश बघेल को लगातार ट्रोल करने की शुरुआत हो गई,

सभी मीडियाकर्मियों का माइक बाहर आ गया और सीएम पर सवालों की बौछार कर दी गई। ये महज थप्पड़ मारने का मामला था।

वहीं यूपी में तो पुलिस ने एक युवक की हत्या ही कर दी। इस पर कितने मीडियाकर्मियों ने सीएम योगी आदित्यनाथ से सवाल पूछा !

वरिष्ठ पत्रकार रोहिणी सिंह ने इस मामले पर मीडियाकर्मियों के दोहरे रवैये पर सवालिया निशान दागते हुए ट्वीट किया है कि “एक थप्पड़ पर छत्तीसगढ़ के सीएम से एक दिन में लाखों सवाल पूछ लिए गए. सवाल पूछने भी जाहिए, ये लोकतंत्र है।

मगर यूपी के उन्नाव में लाॅकडाउन का उल्लंघन करने पर पुलिस की बेरहम पिटाई से एक 18 वर्षीय बच्चे ने दम तोड़ दिया ! इस मुद्दे पर कितने पत्रकारों ने अब तक सीएम योगी आदित्यनाथ से सवाल पूछा?

हमारे देश में मीडिया इन दिनों बेहद विचित्र दौर से गुजर रहा है। इन्हें किसी भी घटना के लिए भाजपा की सरकारें तो कसूरवार नजर ही नहीं आती।

किसी भी मुद्दे पर विपक्ष से सवाल पूछने की नई परंपरा विकसित कर दी गई है, वहीं कहीं कोई गैर भाजपा शासित प्रदेश में कोई घटना घटती है तो सरकार जिम्मेवार हो जाती है पर भाजपा शासित प्रदेश में कोई भी घटना हो जाए तो कोई सवाल पूछता हुआ नजर नहीं आता।

मीडिया की आवाज दब जाती है। लोकतंत्र के थे स्तंभ का इस प्रकार से पतन पहली बार देखा जा रहा है।

प्रिंट और इलेक्ट्राॅनिक मीडिया का हाल तो यह है कि भाजपा शासित प्रदेशों से जुड़े घटनाओं को दबाने की भरपूर कोशिश की जाती है।

भला हो, डिजिटल मीडिया का कि वो अपने स्तर से इन मुद्दों को उठाते हैं और देश की नजर उन घटनाओं पर चली जाती है। दुनिया के सबसे बड़े लोकतंत्र में लोकतंत्र के इस महत्वपूर्ण स्तंभ के रवैये से पूरा देश निराश है।

(आता राष्ट्रीय भारत बातम्या फेसबुक, ट्विटर आणि YouTube आपण कनेक्ट करू शकता.)

प्रतिक्रिया व्यक्त करा

आपला ई-मेल अड्रेस प्रकाशित केला जाणार नाही.

हे देखील तपासा

अस्पृश्यता आणि जातिभेदाची सर्रास प्रकरणे

सरस्वती विद्या मंदिरात अनुसूचित जाती समाजातील मुलाची हत्या…