Home International Environment कोरोना: ग्रामीण और आदिवासी इलाकों के लिए नई गाइडलाइन्स जारी, जानें क्या है खास

कोरोना: ग्रामीण और आदिवासी इलाकों के लिए नई गाइडलाइन्स जारी, जानें क्या है खास

देश में कोरोना महामारी की दूसरी लहर शहरों के साथ ही गांवों में भी अपना असर दिखा रही है। दूसरी लहर में कोरोना की वजह से ग्रामीण इलाकों में भी संक्रमण तेजी से फैला है। ग्रामीण इलाकों में तेजी से फैलते कोरोना वायरस संक्रमण के चलते केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय (Union Health Ministry) ने अब अर्ध-शहरी, ग्रामीण और आदिवासी इलाकों के लिए अलग से नई गाइडलाइन्स जारी की है. नई गाइडलाइन्स में ग्रामीण इलाकों में ILI (INFLUNZA LIKE ILNESS) और SARI (SEVERE RESPIRATORY INFECTION) के मरीजों की निगरानी पर जोर दिया गया है.

गाइडलाइन्स के मुताबिक ग्रामीण इलाकों में कम्यूनिटी हेल्थ अफसर या ANM,मल्टी पर्पस हेल्थ वर्कर (पुरुष) नोडल पर्सन होंगे और उन्हें आशा कार्यकर्ता सहयोग करेंगी. नए SOP में नोडल पर्सन्स को रैपिड एंटीजन टेस्टिंग समेत कई तरह की ट्रेनिंग देने की बात कही गई है.

नई गाइडलाइन्स की प्रमुख बातें: 

-आशा वर्कर्स और विलेज हेल्थ सेंटिटेशन एंड न्यूट्रिशन कमेटी की मदद से निगरानी की जाएगी.

-कोरोना के संदिग्ध मरीजों की रैपिड एंटीजन या आरटीपीएस के ज़रिए टेस्टिंग की जाय.

-कम्युनिटी हेल्थ ऑफिसर की मदद से लक्षण वाले मरीजों को टेली कंसलटेशन मुहैया करवाया जाए.

-Comorbidity और लो सेचुरेशन वाले मरीजों को इलाज के लिए हायर सेंटर भेजा जाए.

-कम्युनिटी हेल्थ ऑफिसर और ANM को रैपिड एंटीजन टेस्टिंग की ट्रेनिंग दी जाय.

-ग्रामीण क्षेत्रो में ऑक्सीजन सेचुरेशन को आंकने के लिए प्लस ऑक्सीमीटर और थर्मामीटर की उपलब्धता सुनिश्चित की जाय.

-आइसोलेशन और कोरन्टीन में मरीजों के फॉलोअप के लिए फ्रंटलाइन वर्कर,वालंटियर,शिक्षक घर घर जाएं.

-इन सबको होम आइसोलेशन किट मुहैया कराई जाए.

-होम आइसोलेशन में मरीज अगर सांस में तकलीफ हो,ऑक्सीजन 94 % से नीचे हो,सीने में दर्द हो तो वो लोग डॉक्टरों से संपर्क करें.

-ऑक्सीजन सेचुरेशन 94% से नीचे हो तो ऑक्सीजन बेड दिया जाय.

-होम आइसोलेशन में रहने वाले मरीजों का 10 दिन में आइसोलेशन खत्म हो जाएगा और बिना लक्षण वाले मरीज की टेस्ट रिपोर्ट पॉजिटिव हो और लग़ातर 3 दिन बुखार न हो तो 10 दिन में होम आइसोलेशन खत्म हो जाएगा.

-ग्रामीण इलाकों में कोविड केयर सेंटर माइल्ड और बिना लक्षण वाले मरीजों के लिए डेडिकेटेड कोविड हेल्थ सेंटर,मॉडरेट केस के लिए और सीवियर केस वाले मरीजों के लिए डेडिकेटेड कोविड अस्पताल इलाज की जरूरत. वहां 30 बेड का इंतजाम हो.

-ये कोविड केयर सेंटर प्राइमरी हेल्थ सेंटर,कम्युनिटी हेल्थ सेंटर की निगरानी में कोविड केयर सेंटर,स्कूल,कम्युनिटी हॉल,मैरिज हॉल,पंचायत बिल्डिंग में बनाएं जाएं.

-एक बेड से दूसरे बेड की दूरी एक मीटर हो, प्रॉपर वेंटिलेशन हो.

-इस कोविड केयर सेंटर के पास बेसिक लाइफ सपोर्ट एम्बुलेस हो जसमें पर्याप्त ऑक्सीजन हो और ये 24 घन्टे की सुविधा हो.

-अगर यहां पर मरीज माइल्ड से मॉडरेट या सीवियर हो तो उसे हायर सेंटर में भेजा जाए.

30 बेड का इंतजाम मॉडरेट मरीजों के लिए जिनका ऑक्सीजन सेचुरेशन 90 से 94 के बीच हो. हर बेड के साथ ऑक्सीजन उपलब्ध हो. डेडिकेटेड कोविड केयर हेल्थ सेंटर के तौर पर प्राइवेट हॉस्पिटल हो सकते हैं. जिले के किसी अस्पताल या प्राइवेट हॉस्पिटल या उनके एक ब्लॉक को डेडिकेटेड हॉस्पिटल में कन्वर्ट किया जा सकता है.

आदिवासी इलाके में मोबाइल मेडिकल यूनिट का इंतजाम हो जिसमे मेडिकल ऑफिसर,फार्मासिस्ट,स्टाफ नर्स और लैब टेक्नीशियन हो. इनके पास रैपिड इंटिकट किट हो, RTPCR सैम्पल लेने की सुविधा हो. माइल्ड केस का इलाज कर सकें और ये डेडिकेटेड कोविड हेल्थ सेंटर और डेडिकेटेड कोविड हॉस्पिटल से इन्हें जोड़ा जा सके. गाइडलाइन्स के मुताबिक इन जगहों पर एनजीओ की मदद ली सकती है.

भारत में 25 दिनों के बाद एक दिन में कोविड-19 के सबसे कम 3.11 लाख मामले आए जबकि 4,077 और लोगों के जान गंवाने से मृतकों की संख्या 2,70,284 पर पहुंच गई है। केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय के 16 मई को जारी आकंड़ों के अनुसार, कोविड-19 का उपचार करा रहे मरीजों की संख्या कम होकर 36,18,458 हो गई है जो संक्रमण के कुल मामलों का 14.66 प्रतिशत है। कोविड-19 से स्वस्थ होने वाले लोगों की राष्ट्रीय दर में सुधार हुआ है और यह 84.25 प्रतिशत है।

(अब आप नेशनल इंडिया न्यूज़ के साथ फेसबुक, ट्विटर और यू-ट्यूब पर जुड़ सकते हैं.)

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Check Also

जूम करके देखें लालू प्रसाद का जीवन

करीब एक सप्ताह पहले पटना से अपनी धुन के पक्के वरिष्ठ पत्रकार Birendra Kumar Yadav जी ने फो…