घर आंतरराष्ट्रीय पुरस्कार पेरियार लालाई सिंह यादव: ब्राह्मणवादाविरोधात बहुजनांमध्ये विद्रोही चेतना निर्माण करणारा लढा

पेरियार लालाई सिंह यादव: ब्राह्मणवादाविरोधात बहुजनांमध्ये विद्रोही चेतना निर्माण करणारा लढा

पेरियारच्या हिंदीतल्या खऱ्या रामायणाच्या पहिल्या प्रकाशकाने द्रविड चळवळीचे नेतृत्व केले, सामाजिक क्रांतिकारक पेरियार ई.व्ही. रामासामी नायकर यांचे सचि रामायण हे पुस्तक पहिल्यांदा हिंदीत आणण्याचे श्रेय ललाई सिंह यादव यांना जाते.. उनके द्वारा पेरियार की सच्ची रामायण का हिंदी में अनुवाद कराते ही उत्तर भारत में तूफान उठ खड़ा हुआ था.

1968 त्याच वेळी, ललाईसिंग यांनी 'द रामायण' लिहिले: ए ट्रू रीडिंग’ का हिन्दी अनुवाद करा कर ‘सच्ची रामायण’ नाम से प्रकाशित कराया.हिंदुओं द्वारा सच्ची रामायण के प्रकाशन पर हंगामा और सरकार द्वारा प्रतिबंध एवं जब्ती छपते ही सच्ची रामायण ने वह धूम मचाई कि हिन्दू धर्म के तथाकथित रक्षक उसके विरोध में सड़कों पर उतर आए.

तत्कालीन उत्तर प्रदेश सरकार ने दबाव में आकर 8 डिसेंबर 1969 को धार्मिक भावनाएं भड़काने के आरोप में किताब को जब्त कर लिया. मामला इलाहाबाद हाईकोर्ट में गया.राज्य सरकार के वक़ील ने कोर्ट में कहा यह पुस्तक राज्य की विशाल हिंदू जनसंख्या की पवित्र भावनाओं पर प्रहार करती है और इस पुस्तक के लेखक ने बहुत ही खुली भाषा में महान अवतार श्रीराम और सीता एवं जनक जैसे दैवी चरित्रों पर कलंक मढ़ा है, हिंदू ज्यांची उपासना करतात. इसलिए इस किताब पर प्रतिबंध लगाना जरूरी है.ललई सिंह यादव की हाईकोर्ट में जीत ललई सिंह यादव के एडवोकेट बनवारी लाल यादव ने ‘सच्ची रामायण’ के पक्ष में जबर्दस्त पैरवी की.

19 जानेवारी 1971 को कोर्ट ने जब्ती का आदेश निरस्त करते हुए सरकार को निर्देश दिया कि वह सभी जब्तशुदा पुस्तकें वापस करे और अपीलकर्ता ललई सिंह को तीन सौ रुपए मुकदमे का खर्च दे. सुप्रीमकोर्ट में ललई सिंह यादव की जीत इसके बाद उत्तर प्रदेश सरकार ने इलाहाबाद हाई कोर्ट के निर्णय के खिलाफ सुप्रीम कोर्ट में अपील की. तीन न्यायाधीशांची सुनावणी, जिसकी अध्यक्षता न्यायमूर्ति वीआर कृष्ण अय्यर ने की और इसके दो अन्य जज थे पीएन भगवती और सैयद मुर्तज़ा फ़ज़ल अली. सुप्रीम कोर्ट में ‘उत्तर प्रदेश बनाम ललई सिंह यादव’ नाम से इस मामले पर फ़ैसला 16 सप्टेंबर 1976 को आया. फ़ैसला पुस्तक के प्रकाशक के पक्ष में रहा. इलाहाबाद हाई कोर्ट के फ़ैसले को सुप्रीम कोर्ट ने सही माना और राज्य सरकार की अपील को ख़ारिज कर दिया.हिंदू धर्म त्याग कर बौद्ध बन गए ललई सिंहइलाहाबाद हाई कोर्ट और सुप्रीम कोर्ट में सच्ची रामायण के पक्ष में मुकदमा जीतने के बाद पेरियार ललई सिंह दलित-पिछड़ों के नायक बन गए.

सुरुवातीचे जीवन 1967 में हिंदू धर्म का त्याग करके बौद्ध धर्म अपना लिया था. बौद्ध धर्म अपनाने के बाद उन्होंने अपने नाम से यादव शब्द हटा दिया. यादव शब्द हटाने के पीछे उनकी गहरी जाति विरोधी चेतना काम कर रही थी. वे जाति विहीन समाज के लिए संघर्ष कर रहे थे.अशोक पुस्तकालय का प्रारंभ पेरियार ललई सिंह यादव ने इतिहास के बहुजनों नायकों की खोज की. बौद्ध धार्मिक बहुजन राजा अशोक यांचा त्यांच्या आदर्श व्यक्तिमत्त्वात समावेश होता.. त्यांनी अशोक अश्या लायब्ररी नावाची एक प्रकाशक संस्था स्थापन केली आणि त्याचे प्रिंटिंग प्रेस स्थापित केले., जिसका नाम ‘सस्ता प्रेस’ रखा था.नाटकों-किताबों का लेखन उन्होंने पांच नाटक लिखे- (1) Angulimal नाटक, (2) Smbuk कत्तल, (3) सेंट माया यज्ञ, (4) एकलव्य, आणि (5) साप यज्ञ नाटक. त्यांनी गद्यामध्ये तीन पुस्तकेही लिहिली - (1) शोषितांवर धार्मिक लूट, (2) शोषितों पर राजनीतिक डकैती, आणि (3) सामाजिक विषमता कशी संपेल?उनके नाटकों और साहित्य में उनके योगदान के बारे में कंवल भारती लिखते हैं कि यह साहित्य हिन्दी साहित्य के समानान्तर नई वैचारिक क्रान्ति का साहित्य था, जिसने हिन्दू नायकों और हिन्दू संस्कृति पर दलित वर्गों की सोच को बदल दिया था. ही एक नवीन चर्चा होती, हिंदी साहित्यात ज्याची कमतरता होती.

ललई सिंह के इस साहित्य ने बहुजनों में ब्राह्मणवाद के विरुद्ध विद्रोही चेतना पैदा की और उनमें श्रमण संस्कृति और वैचारिकी का नवजागरण किया.उत्तर भारत के पेरियार कहलाये ललई सिंहउन्हें पेरियार की उपाधि पेरियार की जन्मस्थली और कर्मस्थली तमिलनाडु में मिली. नंतर हिंदी पट्ट्यात तो उत्तर भारताचा पेरियार म्हणून प्रसिद्ध झाला.. बहुजन नायक पेरियार लालई सिंग यांचा जन्म 1 सप्टेंबर 1921 कानपूरमधील झिंझाक रेल्वे स्थानकाजवळील कथारा गावात जन्म झाला. इतर बहुजनांच्या नायकांप्रमाणेच त्यांचेही जीवन संघर्षांनी भरलेले आहे. ती 1933 ग्वाल्हेरच्या सशस्त्र पोलिस दलात शिपाई म्हणून माझी भरती झाली, पर कांग्रेस के स्वराज का समर्थन करने के कारण, जो ब्रिटिश हुकूमत में जुर्म था, वह दो साल बाद बर्खास्त कर दिए गए. त्यांनी अपील केले आणि अपील म्हणून त्याला पुन्हा कामावर घेण्यात आले. 1946 त्यांनी ग्वाल्हेरमध्येच 'नॉन-राजपत्रित मुलाजीमन पोलिस आणि आर्मी असोसिएशन' ची स्थापना केली., और उसके सर्वसम्मति से अध्यक्ष बने.इस संघ के द्वारा उन्होंने पुलिसकर्मियों की समस्याएं उठाईं और उनके लिए उच्च अधिकारियों से लड़े. जेव्हा अमेरिकेत भारतीयांनी लाला हरदयालच्या अंतर्गत 'गदर पार्टी' स्थापन केली, तर भारतीय सैन्याच्या सैनिकांना स्वातंत्र्य चळवळीशी जोडण्यासाठी सोल्डर ऑफ द वॉर हे पुस्तक लिहिले गेले.

ललई सिंह ने उसी की तर्ज पर 1946 मी 'सोल्जरची आपत्ति' पुस्तक लिहिले, जे छापले नव्हते, पण टाइप करून सैनिकांमध्ये विभागले गेले. लेकिन जैसे ही सेना के इंस्पेक्टर जनरल को इस किताब के बारे में पता चला, त्याने तिच्या विशेष आज्ञेने तिला पकडले. 'सोल्जरची कॅस्ट्रोफ' हे संभाषण शैलीत लिहिलेले पुस्तक होते.. ते प्रकाशित झाले असते तर, तो उसकी तुलना आज महात्मा जोतिबा फुले की ‘किसान का कोड़ा’ और ‘अछूतों की कैफियत’ किताबों से होती.जगन्नाथ आदित्य ने अपनी पुस्तक में ‘सिपाही की तबाही’ से कुछ अंशों को कोट किया है, ज्यात घराच्या दुर्दशावर सैनिक आणि त्याची पत्नी यांच्यात संवाद आहे. शेवटी लिहिलेले- ‘वास्तव में पादरियों, मुल्ला-मौलवीस-पुजारी यांची कल्पना स्वर्ग आणि नरकाची खोटी आहे. हे डोळा डोळा आहे, ख hell्या नरकाची प्रणाली सर्व सैनिकांच्या घरी खर्च केली गेली. या नारकीय व्यवस्थेचे कारण आहे- सिंधिया सरकारचा घोटाळा. तर ते प्रत्येक बाबतीत उलट करावे लागेल, समाप्त करण्यासाठी. 'लोकांनी लोकांवर राज्य केले पाहिजे', तब अपनी सब मांगें मंजूर होंगी.

ब्रिटिश शासन द्वार पांच साल की जेल की सजा इसके एक साल बाद, ग्वाल्हेर पोलिस आणि सैन्यात ललाईसिंग संपावर गेले, ज्याचा परिणाम 29 मार्च 1947 त्यांना अटक करण्यात आली. खटला चालविला, आणि पाच वर्षांच्या कठोर कारावासाची शिक्षा सुनावली. 9 तुरूंगात महिने घालवले, आणि जेव्हा भारत स्वतंत्र झाला, त्यानंतर ग्वाल्हेर स्टेटचे भारतीय प्रजासत्ताकात विलयानंतर, ती 12 जानेवारी 1948 को जेल से रिहा हुए.1950 में सरकारी सेवा से मुक्त होने के बाद उन्होंने अपने को पूरी तरह बहुजन समाज की मुक्ति के लिए समर्पित कर दिया. ब्राह्मणवाद संपविल्याशिवाय बहुजनांना मुक्त करता येणार नाही याची त्यांना पूर्ण जाणीव होती.. एक सामाजिक कार्यकर्ता, लेखक आणि प्रकाशक या नात्याने त्यांनी आपले संपूर्ण जीवन ब्राह्मणवाद निर्मूलन आणि बहुजनांच्या मुक्तीसाठी वाहिले.. 7 फेब्रुवारी 1993 को उन्होंने अंतिम विदा ली.

~~सिद्धार्थ रामू, लेखक~~

प्रतिक्रिया व्यक्त करा

आपला ई-मेल अड्रेस प्रकाशित केला जाणार नाही.

हे देखील तपासा

अस्पृश्यता आणि जातिभेदाची सर्रास प्रकरणे

सरस्वती विद्या मंदिरात अनुसूचित जाती समाजातील मुलाची हत्या…