घर सामाजिक आर्थिक मोदी सरकारचे 7 वर्ष: देशाचे कर्ज आणि बेरोजगारी दुप्पट

मोदी सरकारचे 7 वर्ष: देशाचे कर्ज आणि बेरोजगारी दुप्पट

2014 विरुद्ध 2021 आज भारत कुठे उभा आहे, सामान्य भारतीयांची अवस्था काय आहे?- त्याचे मूल्यांकन फक्त मोदी सरकारसाठी आहे. 7 साल के कामकाज का मूल्यांकन हो सकता है। नरेंद्र मोदी के नेतृत्व वाले बीजेपी के शासनकाल में जहाँ जीडीपी की विकास दर घटती चली गयी, वहीं देशवासियों पर कर्ज बढ़ता चला गया। रोज़गार देने के मामले में भी यह फिसड्डी साबित हुई। बात रोज़गार छिन जाने तक जा पहुँची। स्थिति यह है कि बीते 7 साल में बेरोज़गारी दर दोगुनी हो चुकी है।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के शासनकाल के शुरुआती दो साल में आर्थिक विकास दर सकारात्मक रही, लेकिन बाद के वर्षों में यह लगातार गिरती चली गयी। 2014 में आर्थिक विकास दर 7.4 प्रतिशत थी जो 2016 में बढ़कर 8.25 प्रतिशत हो गयी। लेकिन, नोटबंदी के बाद से देश की अर्थव्यवस्था का चक्का उल्टा घूमने लगा। आर्थिक विकास दर में लगातार गिरावट जारी है और यह 2018 मध्ये 7.04%, 2019 मध्ये 6.11% आणि 2020 मध्ये 4.18% के स्तर पर लुढ़क चुकी है।

जीडीपी के आकार के मामले में भारत 2014 में 10वें नंबर पर था और अब इससे आगे बढ़कर छठे नंबर पहुँच चुका है। मगर, प्रति व्यक्ति जीडीपी के मामले में भारत 147वें स्थान पर है। इसका मतलब यह है कि आम भारतीय पहले से अधिक ग़रीब हुए हैं। भारत की रैंकिंग 22 स्थान नीचे लुढ़क गयी है। 2016 में भारत 125वें स्थान पर था और 2017 में 126वें स्थान पर।

भारत आज वर्ष 2021 मध्ये 189 देशों के बीच 131वें स्थान पर है, भारत ने जहाँ जीडीपी के मामले में एक ट्रिलियन का पड़ाव 60 साल में पूरा किया। 2007 में यह 1.23 ट्रिलियन के मुकाम पर पहुँचा। वहीं, इसे दोगुना होने में महज 7 साल लगे। 2014 में भारत की जीडीपी का आकार 2.03 ट्रिलियन डॉलर हो गया। अब प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने देश को 5 ट्रिलियन डॉलर की इकोनॉमी तक ले जाने का लक्ष्य रखा। यह लक्ष्य बीते 7 साल के रिकॉर्ड को देखते हुए कठिन लक्ष्य नहीं था। लेकिन 2014 पासून 7 साल बाद इस लक्ष्य के आसपास पहुँचना तो दूर हम 1 ट्रिलियन डॉलर भी अपनी इकोनॉमी में नहीं जोड़ पाए हैं। अब 2021 में भारत की जीडीपी 2.7 ट्रिलियन डॉलर की रह गयी है।

modi government 7 years of failure and achievements on economic development - Satya Hindi

भारत पर राष्ट्रीय कर्ज आज 2.62 ट्रिलियन डॉलर है (स्रोत-statista.com)। यह आँकड़ा भारत की जीडीपी (2.7 ट्रिलियन डॉलर) के लगभग बराबर पहुँच चुका है। 2015 में यही कर्ज 1.28 ट्रिलियन डॉलर था। इसका मतलब साफ़ है कि जिस गति से क़र्ज़ में बढ़ोतरी हुई है वह जीडीपी में बढ़ोतरी से कहीं अधिक तेज़ है। जीडीपी और क़र्ज़ का अनुपात 89.56 हो चुका है।

भारतीय मुद्रा में लगातार गिरावट को देखते हुए यह कर्ज बहुत बड़ा सिरदर्द है। डॉलर के मुकाबले रुपया बीते सात साल में 13.11 रुपये कमजोर हुआ है। 2014 में एक डॉलर की कीमत 62.33 रुपये थी। आज यह 75.44 रुपये है। मुद्रा के कमजोर होने का मतलब है कि विदेश से लिया हुआ लोन महंगा हो जाता है।

modi government 7 years of failure and achievements on economic development - Satya Hindi

किसी देश की व्यापारिक सेहत को जानने के लिए उसके आयात-निर्यात और व्यापार संतुलन को देखा जाता है। 2014 में भारत का निर्यात कुल 317.545 अरब डॉलर का था। यह आगे बढ़ने के बजाए मोदी के शासनकाल में घटने लगा। 2020 में यह नीचे घटकर 275 अरब डॉलर का हो गया। 2019 च्या तुलनेत 2020 में अकेले एक साल में 14.7 प्रतिशत की गिरावट आयी। अगर आयात पर नज़र डालें तो 2014 मध्ये 459.369 अरब डॉलर मूल्य का आयात हुआ था। 2019-20 में आयात बढ़कर 474.71 अरब डॉलर का हो गया। आयात का बढ़ना किसी देश की अर्थव्यवस्था के लिए अच्छा नहीं माना जाता। कोशिश इसे घटाने की होती है। 2020-21 में अवश्य इसमें कमी आयी जो घटकर 389.18 अरब डॉलर का रह गया है। जाहिर है कि महामारी वाले वर्ष में आयात में दिख रही मामूली कमी किसी उपलब्धि की ओर इशारा नहीं करती। मगर, पूरे 7 साल का मूल्यांकन करें तो निर्यात घटा है और आयात में मामूली कमी आयी है।

(आता राष्ट्रीय भारत बातम्या फेसबुक, ट्विटर आणि YouTube आपण कनेक्ट करू शकता.)

प्राचीन भारतीय ग्रंथांमध्ये आधुनिक विज्ञान शोधण्यासाठी कोविड महामारीमध्ये स्यूडो-सायन्सची प्रगती – प्राचीन भारतीय ग्रंथांमध्ये आधुनिक विज्ञान शोधण्यासाठी कोविड महामारीमध्ये स्यूडो-सायन्सची प्रगती “प्राचीन भारतीय ग्रंथांमध्ये आधुनिक विज्ञान शोधण्यासाठी कोविड महामारीमध्ये स्यूडो-सायन्सची प्रगती”

जेडीयूनंतर आता अखिलेश यादव यांनी मंडल आयोगाच्या अहवालाची अंमलबजावणी करण्याबाबत भाजपला हे सांगितले

झूम करून लालू प्रसाद यांचे जीवन पहा

मोदी आणि योगी यांच्यात संघर्ष आहे का?? भाजपच्या पोस्टरमध्ये पंतप्रधान मोदींचे चित्र हरवले, हा योगायोग आहे की राजकीय संदेश? ?

प्रतिक्रिया व्यक्त करा

आपला ई-मेल अड्रेस प्रकाशित केला जाणार नाही.

हे देखील तपासा

अस्पृश्यता आणि जातिभेदाची सर्रास प्रकरणे

सरस्वती विद्या मंदिरात अनुसूचित जाती समाजातील मुलाची हत्या…