घर भाषा हिंदी टिकेशच्या डोळ्यात अश्रू पाहून राकेश आला- संजय राऊत म्हणाले

टिकेशच्या डोळ्यात अश्रू पाहून राकेश आला- संजय राऊत म्हणाले

गाजीपुर बॉर्डर पर जारी किसान आंदोलन में मंगलवार को शिवसेना नेता संजय राउत भी शरीक हुए। उनके साथ पार्टी के सांसद अरविंद सावंत भी मौजूद थे। दोनों ने यहां आंदोलन की कमान संभाल रहे भारतीय किसान यूनियन (BKU) के नेता राकेश टिकैत से मुलाकात की। कंधे से कंधा मिलाकर खड़े तीनों नेताओं ने मीडिया के सामने एकजुटता दिखाई। दोनों नेता मुंबई से करीब डेढ़ हजार किलोमीटर दूर स्थित गाजीपुर बॉर्डर पर महाराष्‍ट्र के मुख्‍यमंत्री उद्धव ठाकरे का संदेश लेकर आए थे। राउत ने कहा कि वे मुंबई से यहां इसलिए आए हैं क्‍योंकि ‘हमारा कर्तव्‍य बनता है।उन्‍होंने कहा कि पूरी शिवसेना ‘राकेश टिकैत के साथ है।

मुलाकात के बाद संजय राउत ने मीडिया से कहा, “जिस तरह से यहां दहशतवाद हो गया, जिस तरह से हमारे किसानों को, टिकैत साहब को कुचलने की कोशिश की गई तो हमको लगा कि हमारा कर्तव्‍य बनता है, महाराष्‍ट्र के लोगों का, कि उनके साथ खड़े रहें। उनको हमारी संवदेना दें और कहें कि पूरा राज्‍य, पूरी शिवसेना, उद्धव ठाकरे साहब और हम सब उनके साथ हैं। ये कहने के लिए मैं यहां आया हूं। सरकार को किसानों के साथ कायदे से बात करनी चाहिए। अहंकार से देश चलाने में मदद नहीं मिलेगी।

राउत ने दिल्‍ली आने से पहले ट्वीट कर कहा था कि वे महाराष्‍ट्र सीएम उद्धव ठाकरे के सुझाव पर गाजीपुर बॉर्डर जा रहे हैं। किसानों का आंदोलन मंगलवार को 67वें दिन में प्रवेश कर गया है। 28-29 जनवरी के बाद तेज हुए आंदोलन को देखते हुए दिल्‍ली पुलिस ने गाजीपुर बॉर्डर समेत सभी धरनास्‍थलों पर सुरक्षा बेहद कड़ी कर दी है। कंटीले तारों के अलावा कंक्रीट की दीवारें खड़ी कर दी गई हैं।

किसान नेता राकेश टिकैत ने आरोप लगाया है कि आंदोलन को बदनाम करने की साजिश हो रही है। उन्‍होंने एक टीवी चैनल से बातचीत में कहा कि शांतिपूर्ण धरने के बावजूद दिल्‍ली पुलिस ने रास्ता बंद कर दिया है ताकि ‘जनता कहे कि जनता को दुखी कर रहे हैं।टिकैत ने कहा कि ‘दिल्‍ली पुलिस रास्‍ते बंद कर रही है।‘एम्‍बुलेंस लेन में दो महीने से एम्‍बुलेंस चलती थी, उसे दिल्‍ली पुलिस ने बंद कर दिया। कंटीले तार लगा दिए। तीन रोड को जिसे हमने छोड़ रखा था, उसे भी बंद कर दिया।
फिलहाल कल राज्यसभा में किसान प्रदर्शन को लेकर चर्चा होनी है और 6 फरवरी को किसानों का 3 घंटे के लिए चक्काजाम होगा.

(आता राष्ट्रीय भारत बातम्या फेसबुक, ट्विटर आणि YouTube आपण कनेक्ट करू शकता.)

प्रतिक्रिया व्यक्त करा

आपला ई-मेल अड्रेस प्रकाशित केला जाणार नाही.

हे देखील तपासा

नव्या कृषी कायद्याविरोधात दिल्लीच्या सीमेवर किसान आंदोलन सुरूच आहे 100 दिवस जवळ आले आहेत…