घर सामाजिक शिक्षण बाबा रामदेवच्या पुन्हा अडचणी, आयएमएने दिल्ली पोलिसांकडे तक्रार दाखल केली

बाबा रामदेवच्या पुन्हा अडचणी, आयएमएने दिल्ली पोलिसांकडे तक्रार दाखल केली

रामदेव विरुद्ध इंडियन मेडिकल असोसिएशन (मी एक) विरोध अधिक मजबूत होत आहे. आयएमए आहे 27 मई को दिल्ली के आईपी एस्टेट पुलिस स्टेशन में योगगुरु के खिलाफ शिकायत दी है। इसमें रामदेव पर महामारी एक्ट, आपदा एक्ट और राजद्रोह समेत दूसरी धाराओं के तहत FIR दर्ज करने की मांग की गई है। इस शिकायत की वजह रामदेव का वह बयान है जिसमें उन्होंने एलोपैथी को बकवास और दिवालिया साइंस कहा था। इसे लेकर IMA उनसे नाराज है।

IMA ने अपनी शिकायत में कहा है कि रामदेव और उनके साथियों की मंशा गलत थी। उनका बयान देशहित के खिलाफ था। इससे गरीब जनता को जो नुकसान हुआ है उसकी भरपाई नहीं हो सकती। इसलिए उनके खिलाफ केस दर्ज किया जाना चाहिए।

रामदेव विरुद्ध आयएमएच्या तक्रारीची आयपी इस्टेट पोलिस स्टेशन, दिल्ली येथे प्रत.

छत्तीसगडची राजधानी रायपूरमधील सिव्हिल लाइन्स पोलिस ठाण्यातही रामदेवविरोधात आयएमएने अशीच तक्रार दिली आहे. आयएमएचे जिल्हाध्यक्ष डॉ.. विकास अग्रवाल, सचिव डॉ.. आशा जैन आणि डॉ.. अनिल जैन की ओर से दी गई शिकायत में कहा गया है कि पिछले कुछ दिनों से रामदेव देश के डॉक्टर्स और इंडियन काउंसिल ऑफ मेडिकल रिसर्च से अप्रूव्ड कोरोना की दवाओं के बारे में दुष्प्रचार कर रहे हैं।

एलोपैथी और डॉक्टर्स को लेकर रामदेव के विवादित बयानों को IMA ने बुधवार को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को भी चिट्ठी लिखी है। इसमें कहा गया है कि वैक्सीनेशन को लेकर रामदेव की तरफ से किए जा रहे दुष्प्रचार को रोका जाना चाहिए। साथ ही उन पर देशद्रोह के आरोपों के तहत कार्रवाई की जानी चाहिए। IMA के मुताबिक एक वीडियो में रामदेव ये दावा करते दिख रहे हैं कि कोरोना वैक्सीन की दोनों खुराक लेने के बाद भी 10,000 डॉक्टर और लाखों लोग मारे गए हैं।

IMA उत्तराखंड ने 26 मई को योग गुरु बाबा रामदेव को 1000 करोड़ रुपए का मानहानि का नोटिस भेजा है। यह मामला भी रामदेव के उस वीडियो से जुड़ा है, जिसमें बाबा एलोपैथी के खिलाफ बोल रहे हैं। हालांकि रामदेव ने बाद में अपना बयान वापस ले लिया था। लेकिन IMA का कहना है कि उन्होंने जो बयान दिया है उसके जवाब में अगर वे अगले 15 दिवसांत व्हिडिओ जारी करुन स्पष्टीकरण देऊ नका आणि लेखी माफी मागू नका, तर त्यांच्याकडून 1000 Rs० हजार रुपयांच्या नुकसान भरपाईची मागणी केली जाईल.

(आता राष्ट्रीय भारत बातम्या फेसबुक, ट्विटर आणि YouTube आपण कनेक्ट करू शकता.)

प्रतिक्रिया व्यक्त करा

आपला ई-मेल अड्रेस प्रकाशित केला जाणार नाही.

हे देखील तपासा

अस्पृश्यता आणि जातिभेदाची सर्रास प्रकरणे

सरस्वती विद्या मंदिरात अनुसूचित जाती समाजातील मुलाची हत्या…